-20%

Social Share

श्रद्धा

299.00 239.00

Name of writers /editors :

ISBN :

No. of Pages :

Size of the book :

Book Format :

Name of Publisher :

Edition :

हर्ष कुमार

978-93-93694-87-4

201

A5

Paperback

Nitya Publications, Bhopal

First

-20%

श्रद्धा

299.00 239.00

Social Share

Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn

Description

यह एक पति की अनगढ़ लेखनी से रचित, भाषा-व्याकरण की सीमाओं से परे, संवेदनाओं और भावों से बुना हुआ, पत्नि का आत्मकथ्य है। एक ऐसा पति जो पेशे से इंजीनियर है, जिसकी मातृभाषा हिंदी नहीं है और जिसने लेखन का कोई ज्ञान, कोई अनुभव ना होते हुए भी, पत्नि के प्रबल, उदात्त प्रेम से वशीभूत होकर, उसकी आत्मकथा को लिपिबद्ध करने का साहसिक प्रयास किया है।

यह कथा पति-पत्नि के अगाध प्रेम, पारस्परिक समझ और समर्पण, परिवारिक और सामाजिक कर्त्तव्यों के निर्वहन की पराकाष्ठा और विछोह की व्यथा से ओत-प्रोत है।

भले ही इसकी भाषा सुगढ़-सुंदर-अलंकृत ना होते हुए अत्यंत सहज-सरल है, पर इसका एक-एक शब्द आकंठ प्रेम में डूबा हुआ, अश्रुसिक्त है। एक सच्चे-अशरीरी दिव्य प्रेम का अनुभव करने के लिए यह एक पठनीय रचना है।

शशिकान्त वानी
सेवा-निवृत्त अभियंता
म.प्र. विद्दुत मंडल

× How can I help you?