प्रवासी मजदूर : एक अनकही दास्तान (prvavasi majdur : ek anhoni dastan)

220

Editors   : आशु यादव (Ashu yadav)

Edition : 1

Pager Size : A5                      

No. of Pages : 133

ISBN: 978-93-90390-42-7

Format : Paperback Ebook

Category:

Description

इस पुस्तक को नलिते समय मुझे नजन अध्मापकों, नमत्ों, पाररवाररक सदस्ों, सहकनमुयों, एवं अन्म लोगों से जो सहयोग एवं प्रोत्साहन नमला मै उन सब का आभारी हाँ । मै नवशेष रूप से अपने अनभभावकों का आभारी हाँ नजन्होनें इस पुस्तक की लेिन अवनध मे मुझे अत्यनधक प्रोत्साहन नदया तथा मेरा ननरन्तर उत्साहवधुन नकया । साथ ही मै उन सभी समाज से जुङे हुए व्यखियों का शुनिया अदा करना चाहता हाँ नजनसे मैने मजदूरों के बारे मे सुना और उन्होने मुझे अपने अनुभवों के अनुसार समझाया और बताया । साथ ही मे भाई (अशरफ िााँन ) का हृदय से आभार व्यि करना चाहता हाँ नजन्होंने इस पुस्तक को टाइप नकया । मागुदशुक – रंजीत यादव ( डारेक्टर रााँयल एकेडमी आगरा ) नवशेष धन्मवाद – निदेश यादव, प्रतीिा यादव, गोपाल यादव, अवनीश यादव ( ररंकू ) ।

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “प्रवासी मजदूर : एक अनकही दास्तान (prvavasi majdur : ek anhoni dastan)”

Your email address will not be published.